IIT JEE क्या है?

IIT का एंट्रैन्स exam भारत के 23 शीर्ष प्रौद्योगिकी संस्थानों में admission पाने के लिए दिया जाता है। यह भारत के कुछ सबसे कठिन परीक्षा में से एक है। ये 23 संस्थान “राष्ट्रीय महत्व” के संस्थान हैं जो भारत सरकार द्वारा स्थापित किए गए हैं। 2021 तक भारत में आईआईटी की कुल 16,234 सीट हैं। जिनके लिए प्रतिवर्ष लाखों उम्मीदवार आवेदन करते हैं। IIT की परीक्षा हर साल आयोजित की जाती है। यह परीक्षा स्नातक के लिए होती है। पहली बार इसका आयोजन सन 1960 में किया गया था। तब इसे Common Entrance Exam (CEE) नाम दिया गया था। बाद में इसका नाम JEE (संयुक्त प्रवेश परीक्षा) कर दिया गया।

IIT JEE परीक्षा के लिए योग्यता?

योग्यता – इस परीक्षा में वे स्टूडेंट शामिल हो सकते हैं जिन्होंने 12th के बोर्ड एकसां में कम से कम 75% अंक हासिल किए हों और यह प्रतिशत प्रतिवर्ष बदलता रहता है। यह देश के सभी बोर्ड्स के मूल्यांकन के आधार पर तय किया जाता है।

IIT JEE की परीक्षा के लिए निर्धारित प्रक्रिया – Exam Pattern

Exam प्रक्रिया – 2013 से यह परीक्षा दो भागों में सम्पन्न कराई जाती है।
1. JEE Mains
2. JEE ADVANCE
यदि कोई स्टूडेंट IIT में आवेदन करना चाहता है तो उसे JEE mains का पेपर देना होगा। JEE mains में qualify हो जाने के बाद वह advance के लिए आवेदन कर सकता है। हर वर्ष लगभग 150000 स्टूडेंट्स advance exam में शामिल होते हैं।
इसमें दो तरीके के पेपर होते हैं

1. BE और BTECH – इसमें mathematics, chemistry और physics के 30 – 30 प्रश्न होते हैं। हर प्रश्न के 4 अंक निर्धारित होते हैं। अतः इसमें कुल 90 प्रश्न होते हैं। जिनके कुल 360 अंक निर्धारित्त होते हैं।

2. B.Arc. और B.Planing – इसमें गणित के 30 प्रश्न होते हैं। जिनके 120 अंक निर्धारित होते हैं। aptitude test के 50 प्रश्न होते हैं। इनके 200 अंक निर्धारित होते हैं। साथ ही drawing test के 2 प्रश्न होते हैं जिनके 70 अंक निर्धारित होते हैं।
पेपर को हल करने के लिए 3 घंटे का समय दिया जाता है।

Leave a Reply 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *